नंदा देवी राज जात यात्रा 2014

नंदा देवी राज जात यात्रा

Translate this page in your own language.

Home / नंदा देवी राज जात यात्रा 2014

 

PUBLIC NOTIFICATIONS

 

JULY 01, 2014 :: Preparations for the Nanda Raj Jat Yatra 2014 are in full swing. The auspicious Yatra will start from August-18 to September-06, 2014, covering 250+ km. The program itinerary is given below.

* Bookings for Nanda Raj jat tour are open with Dreamcatcher Adventure.*


 

नंदा राजजात यात्रा में भी बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन

श्री नंदा देवी राजजात यात्रा में शामिल होने वाले सभी यात्रियों का बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। पंजीकरण के साथ ही सभी यात्रियों का मेडिकल परीक्षण किया जाएगा। मुख्य सचिव सुभाष कुमार ने सभी महकमों को 30 जुलाई तक यात्रा से संबंधित समस्त कार्य पूरे करने के निर्देश दिए हैं।

सचिवालय में मंगलवार को मुख्य सचिव ने एक अगस्त से 30 सितंबर तक चलने वाली नंदा देवी राजजात यात्रा की तैयारी की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि लोक निर्माण विभाग ने आठ सड़कें बना लीं। जल संस्थान ने 22 में से आठ कार्य पूरे कर लिए हैं। बिजली विभाग ने 16 में से 13 कार्य किए हैं। खड़ंजा, पुलिया, अतिरिक्त कक्ष, सीसी रोड, आदि 100 में से 80 कार्य पूर्ण हो गए हैं। वन महकमे के 56 में से 53 कार्य पूरे हुए हैं। यात्रा मार्ग पर 621 शौचालयों में 372 बन गए हैं। 20 रेन वाटर शेल्टर में 15 तैयार हो गए हैं। उरेडा ने 300 स्ट्रीट लाइट लगा दी हैं। 400 सोलर लैंटर्न की व्यवस्था की गई है। यात्रा के दौरान आइटीबीपी, एनआइएम, राज्य पुलिस के अलावा एसडीआरएफ के 100 जवान तैनात रहेंगे।

बैठक में तय किया गया कि यात्रा के दौरान प्राथमिक उपचार और जीवन रक्षक दवाओं की समुचित व्यवस्था की जाएगी। पूरे यात्रा मार्ग को सात जोन नौटी, कुलसारी, नंदकेसरी, वाण, वेदनी, घाट और सुतोल में बांटा जाएगा। सभी जोन में मजिस्ट्रेट, पुलिस उपाधीक्षक, खाद्य आपूर्ति निरीक्षक तैनात होंगे। उच्च हिमालयी क्षेत्रों में चार प्रभागीय वनाधिकारी और साहसिक खेल अधिकारी तैनात रहेंगे। वाण-गैरोलीपातल, वेदनी-पातरचौनिया, सिलासमुद्र-होमकुंड और चंदनियाघाट-लाता कोपड़ी में इनकी तैनाती रहेगी। बैठक में अपर मुख्य सचिव राकेश शर्मा, गृह प्रमुख सचिव एमएच खान, गढ़वाल मंडलायुक्त सीएस नपलच्याल, पर्यटन सचिव उमाकांत पंवार समेत कई अधिकारी मौजूद थे।

 

सूंग गांव में चौसिंग्या खाडू का जन्म !

गोपेश्वर। श्री नंदा देवी राजजात यात्रा की अगवानी करने वाले चौसिंग्या खाडू (चार सींगों वाली भेड़) का जन्म घाट ब्लॉक के सूंग गांव में हुआ है। मंगलवार रात्रि को मां नंदा के भाई द्यो सिंह के पश्वा सुतोल निवासी मेहरबान सिंह और मां नंदा के सिद्धपीठ कुरूड़ के पुजारी मुंशी चंद्र गौड़ को सपने में दिखा कि सूंग गांव के केदार सिंह की भेड़ों में से एक चौसिंग्या खाडू पैदा हुआ है। बुधवार को मेहरबान सिंह और मुंशी चंद्र सूंग गांव पहुंचे। यहां खोजबीन के बाद केदार सिंह की भेड़ों में चौसिंग्या खाडू की पहचान की गई। सिद्धपीठ कुरूड़ के पुजारी मंशाराम गौड़ ने बताया कि धार्मिक मान्यताओं के आधार पर चौसिंग्या खाडू के तिलक की तिथि शीघ्र तय कर ली जाएगी। श्री नंदा राजजात यात्रा आगामी 18 अगस्त से विभिन्न पड़ावों से होकर छह सितंबर को होगी।


चौसिंग्या खाडू की ये है मान्यता: धार्मिक मान्यता के अनुसार चौसिंग्या खाडू को मां नंदा का देव रथ माना जाता है। यह 12 वर्ष में नंदा देवी के मायके के क्षेत्र में पैदा होता है। खाडू की पीठ पर लादकर मां नंदा के सामान को कैलाश तक पहुंचाया जाता है। होमकुंड से खाडू को पूजा-अर्चना के बाद कैलाश को अकेले ही रवाना कर दिया जाता है, जिसका आज भी नंदा के भक्त परंपरा के रूप में निर्वहन कर रहे हैं।
 


 

नंदा देवी राज जात 2014

नंदा देवी राज जात यात्रा (पवित्र यात्रा) 2014 के वर्षा ऋतु में होगी और दुनिया भर से हजारों भक्त और उत्साही लोग भाग लेंगे. एक उम्मीद से 15,00,000 लोगों नंदा राज जात यात्रा में भाग लेंगे तथा उत्तराखंड की संस्कृति और भूगोल को करीब से देख सकते हैं. यह यात्रा मीडिया और जो लोग देवी नंदा देवी के लिए उच्च सम्मान रखते है के उनके लिए एक सुवर्णमय अवसर है.

Nanda Devi Raj Jat Yatra, 2014 - Information in English
US Flag

नंदा देवी राज जात एक कठिन यात्रा है (यह पर्वतारोहण है), जबकि कई लोगों के लिए 'कुछ भी नहीं' है. यात्रा डोली और चार सींग वाला पवित्र भेड़ा (Khadu) देखने के लिए जनता तीन सप्ताह के लिए इस आश्चर्यजनक यात्रा में भाग लेते है.

नंदा देवी राज जात यात्रा 2014 - कार्यक्रम 
दिनांक कार्यक्रम
अगस्त 18 सुबह नौटी से Idabadhani
अगस्त 19 Idabadhani से नौटी
अगस्त 20 नौटी से Kansuwa
अगस्त 21 Kansuwa से सेम
अगस्त 22 सेम से Koti
अगस्त 23 Koti से भगवती
अगस्त 24 भगवती से कुलसारी
अगस्त 25 कुलसारी से Chepnue
अगस्त 26 Chepnue से Nandkesari
अगस्त 27 Nandkesari से Faldiagaon
अगस्त 28 Faldiagaon से Mundoli
अगस्त 29 Mundoli से वान
अगस्त 30 वान से Gairoli Patal
अगस्त 31 Gairoli Patal से बेदनी बग्याल
सितम्बर 01 बेदनी से Patar Nachaunia
सितम्बर 02 Patar Nachaunia से शिला समुद्र
सितम्बर 03 शिला समुद्र से Homkund से Chandaniyaghat
सितम्बर 04 Chandaniyaghat से Sutol
सितम्बर 05 Sutol से घाट
सितम्बर 06 घाट से नौटी


नंदा देवी राज जात के तथ्य:

  • नंदा देवी भारत की सबसे ऊंची चोटी है.
  • एक वार्षिक राज जात हर वर्ष सितंबर के महीने में होता है.
  • नंदा देवी राज जात 2013 150.000 भक्तों का गवाह होगा.
  • वर्ष 2000 में नंदा देवी राज जात में +५०,००० प्रतिभागियों को देखा.
नंदा देवी राज जात यात्रा 2014


एक रहस्यमय यात्रा

नंदा देवी - पहाड़ों के राजा की बेटी - गढ़वाल और कुमाऊं क्षेत्र के मूल निवासी के लिए आध्यात्मिक देवी है. नंदा देवी अगस्त के महीनों (भादों) में उनकी मां के घर जाती है. उनकी यात्रा एक उत्सव के रूप में स्थानीय नागरिकों द्वारा मनाया जाता है. हर 12 साल में यह अवसर और अधिक महत्वपूर्ण होता जाता है और इसलिए नंदा देवी राज जात यात्रा का आयोजन होता है.


नंदा देवी राज जात 12 वर्षों में एक बार होता है - यात्रा नौटी गांव से एक रहस्यमय चार सींग वाले भेड़ और नंदा देवी डोली के साथ शुरू होती है. तीन सप्ताह के बाद यह आध्यात्मिक यात्रा रूपकुंड झील और होमकुंड झील पहुंचती है. इस बिंदु से आगे चौसीगां भेड़ यहाँ से पहाड़ों में अपनी आगे की यात्रा पर अकेले चला जाता है और जंगल में गायब हो जाता है.


नंदा देवी राज जात यात्रा मार्ग:

 

नंदा देवी राजजात यात्रा मानचित्र

नंदा देवी राजजात यात्रा मानचित्र

 

यदि आप इस भावना, विश्वास और विस्मय कि शानदार यात्रा का एक हिस्सा होना चाहते हैं, तो शायद एक निर्देशित ट्रेक इस के लिए एक उपयुक्त तरीका होगा.


इसलिए Dreamcatcher एडवेंचर्स नंदा देवी राज जात के लिए एक विशेष यात्रा पैकेज टूर का आयोजन कर रहा है. जो भक्त पहाड़ों में चलने के आदि नहीं है वह एक पर्वतारोहण विशेषज्ञ ट्रैकिंग कंपनी पर भरोसा कर सकते हैं. हमारी विशेषज्ञ ट्रैकिंग टीम के साथ आप एक प्रसिद्ध यात्रा के गवाह होगे. यात्रा ट्रेक मार्ग थोड़ा कठिन है, विशेष रूप से बरसात के मौसम की वजह से है. अपना बैगपैक अच्छी तरह से तैयार कर ले. गर्म कपड़े, अपने बैग और शरीर के लिए बारिश संरक्षण और ट्रैकिंग जूते बहुत आवश्यक है. सहनशक्ति, मानसिक व शारीरिक रूप से नंदा देवी राज जात के चुनौतीपूर्ण अनुभव के लिए तैयार रहैं.

 

नंदा देवी राज जात यात्रा में आप कैसे भाग ले सकते हैं?

 

DREAMCATCHER ADVENTURE के साथ नंदा देवी राज जात 2014 बुकिंग

 

उपरोक्त शामिल हैं:

  • सभी भोजन (नाश्ता, पैक दोपहर का भोजन और रात का खाना)
  • सुबह और शाम में चाय, कॉफी
  • डबल या ट्रिपल अधिभोग के अल्पाइन टेंट (बारिश सबूत)
  • स्लीपिंग बैग, रोल चटाई और लाइनर
  • ट्रेकिंग मेज और कुर्सि
  • गाइड मार्गरक्षण / ट्रेकिंग क्रू
  • प्राथमिक चिकित्सा

 

उपरोक्त में शामिल नहीं हैं:

  • किसी भी प्रकार की परिवहन
  • जूते, वर्षा व गर्म कपड़ों की तरह ट्रेकिंग गियर
  • आपात निकासी प्रभार
  • व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा
  • निजी सामान के लिए पोर्टर
  • वाकिंग डंडों

 

बुकिंग के लिए शर्तें:

i) पुष्टि की बुकिंग राशि के रूप में 50% अग्रिम प्राप्त किया जाएगा. शेष 50% यात्रा के प्रारंभ होने से पहले भुगतान किया जाना चाहिए.

ii) बुकिंग पहले आओ पहले पाओ के आधार पर हैं, यात्रा के दौरान मेहमानों की एक सीमित संख्या होगा. कारण - भारी भीड़ के कारण सीमित व्यवस्था.

 


Nanda Devi Raj jat Yatra 2014 Details

Trekking during Nanda devi Raj Jat 2014 would require you to be in good health. While it is easy to get dragged by massive crowds, self-preparation for a long trek are must. Ask Dreamcatcher on how you can prepare best for this exclusive journey (yatra) that happens only once in 12-years.

Yatra Route: Nauti – Sem – Bhagwati – Kulsari – Kulsari – Chepnue – Dewal – Mundoli – Wan (latu Devta) – Bedni Bugyal – Pathar Nachonia (Kalua Vinayak) – Bhagubasa (Roopkund & Jeaunra Gali) – Shila Samudra – Latu Khopri – Sutol – Sitel – Ghat

Lake altitude: 4700 Above MSL

Yatra Dates : August and September, 2014

Cautions: Good hiking boots, winter clothes, rain protection, rain-proof tents, sleeping bags needed.

Temperature and Weather: It could rain a lot during Yatra. Night temperatures around Roopkund could go sub 0 degree Celsius.