Nanda Devi Raj Jat Yatra 2014

Nanda Devi Raj Jat Yatra Information

Translate this page in your own language.

Home / Nanda Devi Raj Jat

 

PUBLIC NOTIFICATION

Nanda Devi Raj Jat Yatra 2014 was succesfully completed by Dreamcatcher Adventure.


Shri Nanda Devi Raj Jat Yatra that was due for the year 2012 was postponed for 2013 and subsequently postponed again for 2014 due to floods and natural calamities in Uttarakhand. The legendary Yatra (holy journey) tool place in the monsoons of 2014 and was witnessed by thousands of devotees from across the world. A large number of people from across the world participated in 2014 Nanda Raj Jat Yatra 2014, and got a close look at the culture, faith and geography of Uttarakhand. The Yatra is once in a lifetime experience to witness the cult for those who maintain deep sentiments for goddess Nanda Devi.

 

Nanda devi Raj jat Yatra 2014 is an arduous journey (it's a trek) and the three weeks of yatra are packed with the exposure of Garhwal Himalaya culture, the ethnic lifestyle and the endemic flora & fauna of the region. Majority of yatra route will be along the Pindar valley. Most people find yatra as 'nothing' where masses of people mobs to witness the Doli and the four-horned holy sheep (Khadu / Meda) at every village the Yatra halts by at night.

FACTS:

  • Nanda Devi is highest peak that is completely in India, after Kanchenjunga.
  • An annual Lok Jat takes place every year in the month of September.
  • Nanda Raj jat is proclaimed as Kumbh of Uttarakhand.
  • Nanda Devi Raj Jat 2014 will witness 100,000 devotees everyday.
Nanda Devi Raj Jat Yatra


The Mystic Yatra

Nanda devi - the goddess, daughter of Kings of mountains - is the spiritual goddess for natives of Garhwal and Kumaon region. The goddess visits her mothers place in these mountains in Bhado - months of August - and her visit is rejoiced by local citizens as a festive time. Every 12-years this occasion becomes all more important and hence the Yatra.


Nanda devi raj jat happens once in 12 years - the journey starts from Nauti village accompanying a mystical four-horned sheep and Doli. In about three weeks time this festive and spiritual journey reaches the Roopkund Lake and to Homkund Lake where they leave the sheep (Khadu) beyond this point, and from here it proceeds on its further journey into the mountains alone and vanishes in the wild.

 

 

Nanda Devi Raj Jat 2014 Yatra Program
Date Yatra Program
August 18 Yatra begins from Nauti village and reach Idabadhani
August 19 Idabadhani to Nauti
August 20 Nauti to Kansuwa

August 21

Kansuwa to Sem
August 22 Sem to Koti
August 23 Koti to Bhagwati
August 24 Bhagwati to Kulsari
August 25 Kulsari to Chepdnue
August 26 Chepdnue to Nandkesari
August 27 Nandkesari to Faldiagaon
August 28 Faldiagaon to Mundoli

August 29

Mundoli to Wan
August 30 Wan to Gairoli Patal
August 31 Gairoli Patal to Bedni

September 01

Bedni to Patar Nachaunia
September 02 Patar Nachaunia to Shilasamudra
September 03 Shilasamudra to Homkund and Chandaniyaghat
September 04 Chandaniyaghat to Sutol
September 05 Sutol to Ghat
September 06 Ghat to Nauti

 

ROUTE MAP

 

NANDA DEVI RAJ JAT YATRA ROUTE MAP

 

Nanda Devi Raj Jat Yatra 2014 Route

The route of Nanda Devi Raj Jat is given below:

 

If you wish to be a part of this truly mesmerizing experience then a guided trek along with all the mountaineering arrangement is the ideal way to witness this fabulous journey of spirit, faith and amazement.


Dreamcatcher Adventure is organizing a special Yatra package tour so the devotees who are not used walking in mountains can rely on a trekking company that specialize in mountain survival. With our team and large crowds you will witness a journey which is legendary to say the least. The yatra trek route is slightly arduous, especially due to monsoon season. You must pack and prepare well as it could be a dizzying as well as physically challenging experience. Get warm clothes and rain protection for your backpack and body. Build fitness and stamina since it is much required. Contact Dreamcatcher on how you can participate Nanda Devi Raj Jat Yatra 2014.

 

BOOKING NANDA DEVI RAJ JAT 2014 TRIP WITH DREAMCATCHER ADVENTURE

Dreamatcher Adventure can organize Raj jat yatra for you and your group.

Our yatra trekking program would include:

  • All meals (Breakfast, packed lunch and dinner)
  • Tea/coffee in morning and evening
  • Alpine dome tents (rain proof) of double or triple occupancy
  • Sleeping Bags and Roll mat
  • Trekking table & chairs
  • Escorting guide / Trekking Crew / Cooks / Helpers
  • Porter / Mules / Transport for luggage only (as required)
  • Primary first-aid support
  • Essential mountaineering equipments as required for trekking purpose

 

The above charges would NOT include:

  • Transport of any kind
  • Pony/mule ride of any kind
  • Trekking gears like Shoes, Rain-cheater and warm clothes
  • Emergency evacuation charges
  • Personal accidental insurance
  • Headlamp/Torches
  • Walking Poles

 

DAILY MENU

Our Standard Menu during a trekking expedition would be combinations of dishes like given below (Menu not limited to the below dishes)

SESSION

MENU

MORNING

  • Wake Up morning beverage (Tea/Coffee)
     

BREAKFAST

  • White/Brown Bread
  • Pancakes
  • Butter
  • Muesli
  • Milk Porridge
  • Cornflakes

 

  • Milk Tea
  • Green Tea / Herbal Tea
  • Coffee
  • Hot Chocolate
  • Tibetan Bread
  • Peanut Butter

 

  • Seasonal Jams (Organic Buria Jam)
  • Honey
  • Fruits
  • Parantha (Stuffed/potato etc)
  • Poha

 

DAILY ENERGY PACK

  • Dry Fruits
  • Fresh/Tetra-pack Juice
  • Chocolate
  • Candies

 

EVENING SNACKS

  • Tea / Coffee / Pakora etc
  • French Fries

 

LUNCH
(Usually Packed Lunch)

  • Stuffed Parantha
  • Roasted Potato with Cummins + Poori Bhaji
  • Fruit

 

* Hot Lunch will be served on days when the group will be at halt or reach the next stop (padav) early during that particular day.

DINNER

  • Starters – Soup (Tomato / Hot Sour / Veg Soup / Mushroom Soup)
  • Boiled Rice
  • Fried Rice
  • Chapati
  • Parantha
  • Dal (Lentils)
  • Seasonal vegetables
  • Pasta
  • Chinese Noodles
  • Manchurian
 
  • Idli / Sambhars
  • Seasonal salad
  • Poppadums
  • Pickles / Chutney
  • Sweets / Deserts

 

EQUIPMENTS DURING YATRA

  • 3-Season Tents (Brands - Quechua / Moorehead / Vaude – of international safety standards)
  • Sleeping Bags (0 to -10 C’ category)
  • Rolling Mat
  • Mountaineering Rope (7-mm or 10-mm)
  • Carabineer
  • Piton

Good trekking shoes are mandatory to attempt the trekking route of Nanda Devi Raj Jat Yatra. Make sure your team is using best trekking boots. Before starting the trek we will analyze the weather situation and carry every essential mountaineering equipment to accomplish our trek. 

 

 

CAUTIONS
The trek should not be attempted by those with the following health problems:

  • Asthma
  • Chronic Heart disease
  • Recent bone injuries
  • Phobia of Height

Personal Equipments YOU must carry

  • Personal Backpack (with rain cover)
  • Headlamps/Torch
  • Walking Poles
  • Goggles / Shades (especially to avoid white-out or harsh sun)
  • Floaters/Sandals
  • Small personal medical kit
  • Warm clothes (skull cap, warm jackets, insulators)
  • Wet wipes, tissues, toilet roll
  • Hand sanitizer

 

INSTRUCTIONS
 

  • You should carry your own personal day pack consisting of (water, medical aid, snacks, warm jacket etc). The weight will not exceed 5-8 kgs. Rest of your luggage would be hauled by porters or mules. It is also advisable that you bring limited things during the yatra.

  • Note that the inability to complete the trek by you or your team members will not get refunded. Please make sure every member is mentally and physically ready and willing to pursue the auspicious Nanda Raj Jat yatra.

 

i) Confirmed booking will be made after receiving 50% advance as booking amount. The remaining 50% must be paid before the commencement of the Yatra.

ii) Bookings are on first-come-first-serve basis as we will have a limited number of guests during the Yatra. Because of the massive crowd expected to join Yatra we will make limited arrangement for our group.


 

 

RAJ JAT NEWS SNIPPETS

 

रेकी कर लौटी स्पेशल टास्क फोर्सा

केदारनाथ पुनर्निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली स्पेशनल टास्क फोर्स के 32 सदस्यीय दल ने नंदाराज जात के पैदल मार्ग की रेकी कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। टीम अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। इसके बाद आगे की रणनीति पर विचार होगा।

नंदा राजजात के लिए प्रदेश सरकार ने अंतिम दौर की तैयारियां शुरू कर दी हैं। केदारनाथ पुनर्निर्माण में लगी टास्क फोर्स के सदस्यों ने नंदाजात के पड़ाव स्थलों पर विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर मंथन शुरू कर दिया है। टीम ने प्रथम चरण में यात्रा के पड़ाव स्थलों की रेकी की है। 32 सदस्यीय टीम ने टास्क फोर्स के प्रमुख डीआइजी जीएस मर्तोलिया व उप प्रमुख कर्नल अजय कोठियाल के नेतृत्व में लगभग 75 किमी का पैदल सफर तीन दिन में पूरा किया। डीआइजी मर्तोलिया ने बताया कि सभी यात्रा पड़ाव में वर्तमान स्थितियों की वीडियोग्राफी कर रिपोर्ट तैयार की जा रही है। यात्रा को किस तरह सफल बनाया जाएगा इसको लेकर सरकार से विचार विमर्श किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान यात्रियों की सुरक्षा, उनके लिए भोजन, रहने व मेडिकल सुविधा पर ही मुख्य फोकस किया जाएगा। उप प्रमुख कर्नल कोठियाल ने कहा कि उनकी टीम यात्रियों के रहने के लिए उस क्षेत्र के वातावरण के अनुसार व्यवस्था करेगी। पैदल मार्ग पर यात्रियों की सुरक्षा व तबियत बिगड़ने पर समय से उपचार कराना सबसे बड़ी प्राथमिकता है। कर्नल कोठियाल ने कहा कि रेकी के दौरान टीम ने यात्रा मार्ग में हेलीपैड की संभावनाओं को भी टटोला। इसमें वेदनी, सीला समुद्र समेत चार स्थानों पर हेलीपैड बनाए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि बुग्यालों में दलदली भूमि होने से हेलीकाप्टर के उतरने में दिक्कतें हैं। इसलिए अस्थाई रूप से इनके उतरने की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए पांच स्थान पर हेलीपैड के लिए स्थान चयनित किए गए हैं।

मुख्य बिन्दु

-कई स्थानों पर जानलेवा व खतरनाक बना है पैदल मार्ग

-रुपकुंड से आगे 6 किमी पैदल मार्ग पर रसियों के लेना होगा यात्रियों को सहारा

-पड़ाव स्थलों में अभी 100 यात्रियों के ही रहने की है व्यवस्था

-कई पड़ाव स्थलों पर अभी हट निर्माण के लिए वन विभाग का सामान तक नहीं पहुंचा

-यात्रियों को गाड-गदेरों भी करने होंगे पार

-यात्रा मार्गो पर मोबाइल नेटवर्किंग की नहीं कोई व्यवस्था

-सड़क से जुडे़ पड़ाव स्थलों पर भी अभी तक पोल तो गाडे़, लेकिन नहीं पहुंची लाइट.

 

गैरोलीपातल पहुंचने में छूटेगा पसीना

नंदा देवी राजजात में भक्तों की असली परीक्षा बाण के बाद शुरू होती है। गैरोलीपातल यात्रा का पहला ऐसा पड़ाव है जो सड़क मार्ग से जुड़ा नहीं है। यात्रियों को बाण से यहां पैदल ही पहुंचना पडे़गा। पैदल मार्ग कई स्थानों पर खराब है।

सदियों से चली आ रही हिमालय की सबसे दुर्गम यात्रा नंदादेवी राजजात ऐसी धार्मिक यात्री है जिसमें पौराणिक काल से भक्त बड़ी संख्या में शामिल होते हैं। इस यात्रा के 12 पड़ाव मोटर मार्ग से जुडे़ हैं। इससे यात्री पैदल चलने के साथ ही मोटर मार्ग से भी इन पड़ावों तक पहुंच सकता है, लेकिन 12वें पड़ाव वाण से आगे यात्रा पैदल ही तय करनी होती है। यात्रा की असल परीक्षा यहीं से शुरू होती है। वाण से 10 किमी का पैदल सफर हालांकि बहुत कठिन नहीं है, लेकिन पैदल मार्ग की जर्जर स्थिति यात्रियों की दिक्कतें बढ़ाएंगी। गैरोलीपातल पड़ाव स्थल की बात करें तो यहां पर अभी सीमित व्यवस्थाएं ही जुट पाई हैं। पुराने हट मिलाकर कुल पांच हट हैं, जबकि एक पुराना टीन शेड बना है। लगभग सौ यात्रियों के रहने की व्यवस्था है, जबकि उम्मीद की जा रही है कि यहां पर दस हजार यात्री आ सकते हैं। ऐसे में सरकार की मुश्किलें बढ़ना तय है। यहां स्थान भी सीमित हैं, जिसमें दस हजार लोगों की व्यवस्थाएं करना आसान नहीं होगा।

----------------------

परिचय: गैरोलीपातल

समुद्र तल से 3021 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह पड़ाव खुले आसमान के नीचे स्थित है। मान्यता है कि गैरोलीपातल पहुंचने से पहले कैलगंगा में यात्री विश्राम करके तिलपात्र करते हैं। इस नदी के जल को लाटू देवता के निशान से स्पर्श कराया जाता है। इसके बाद नदी में कितना भी पानी व बहाव हो इसे पार करना आसान हो जाता है। मान्यता है कि धर्मभाई लाटू देवी को वचन देता है कि इस यात्रा में शामिल होने वाले यात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी मेरी है। इसके बाद यात्री गैरोलीपातल पहुंचता है। यह पड़ाव स्थल चारो ओर से बांज, बुरास, रिंगाल व देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है।

-----------------------

अब तक की गई व्यवस्था

बनाए गए-पांच हट व एक टीन शेड

क्या होनी है मुख्य व्यवस्था

-लगभग दस हजार लोगों के रहने के लिए 1000 हट या टेंट का इंतजाम

-क्षतिग्रस्त पैदल मार्ग ठीक करना

-यात्रियों के भोजन व मेडिकल की सुविधा।

 

नंदा राजजात यात्रा में भी बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन

श्री नंदा देवी राजजात यात्रा में शामिल होने वाले सभी यात्रियों का बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। पंजीकरण के साथ ही सभी यात्रियों का मेडिकल परीक्षण किया जाएगा। मुख्य सचिव सुभाष कुमार ने सभी महकमों को 30 जुलाई तक यात्रा से संबंधित समस्त कार्य पूरे करने के निर्देश दिए हैं।

सचिवालय में मंगलवार को मुख्य सचिव ने एक अगस्त से 30 सितंबर तक चलने वाली नंदा देवी राजजात यात्रा की तैयारी की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि लोक निर्माण विभाग ने आठ सड़कें बना लीं। जल संस्थान ने 22 में से आठ कार्य पूरे कर लिए हैं। बिजली विभाग ने 16 में से 13 कार्य किए हैं। खड़ंजा, पुलिया, अतिरिक्त कक्ष, सीसी रोड, आदि 100 में से 80 कार्य पूर्ण हो गए हैं। वन महकमे के 56 में से 53 कार्य पूरे हुए हैं। यात्रा मार्ग पर 621 शौचालयों में 372 बन गए हैं। 20 रेन वाटर शेल्टर में 15 तैयार हो गए हैं। उरेडा ने 300 स्ट्रीट लाइट लगा दी हैं। 400 सोलर लैंटर्न की व्यवस्था की गई है। यात्रा के दौरान आइटीबीपी, एनआइएम, राज्य पुलिस के अलावा एसडीआरएफ के 100 जवान तैनात रहेंगे।

बैठक में तय किया गया कि यात्रा के दौरान प्राथमिक उपचार और जीवन रक्षक दवाओं की समुचित व्यवस्था की जाएगी। पूरे यात्रा मार्ग को सात जोन नौटी, कुलसारी, नंदकेसरी, वाण, वेदनी, घाट और सुतोल में बांटा जाएगा। सभी जोन में मजिस्ट्रेट, पुलिस उपाधीक्षक, खाद्य आपूर्ति निरीक्षक तैनात होंगे। उच्च हिमालयी क्षेत्रों में चार प्रभागीय वनाधिकारी और साहसिक खेल अधिकारी तैनात रहेंगे। वाण-गैरोलीपातल, वेदनी-पातरचौनिया, सिलासमुद्र-होमकुंड और चंदनियाघाट-लाता कोपड़ी में इनकी तैनाती रहेगी। बैठक में अपर मुख्य सचिव राकेश शर्मा, गृह प्रमुख सचिव एमएच खान, गढ़वाल मंडलायुक्त सीएस नपलच्याल, पर्यटन सचिव उमाकांत पंवार समेत कई अधिकारी मौजूद थे।

 

 

सूंग गांव में चौसिंग्या खाडू का जन्म

श्री नंदा देवी राजजात यात्रा की अगवानी करने वाले चौसिंग्या खाडू (चार सींगों वाली भेड़) का जन्म घाट ब्लॉक के सूंग गांव में हुआ है। मंगलवार रात्रि को मां नंदा के भाई द्यो सिंह के पश्वा सुतोल निवासी मेहरबान सिंह और मां नंदा के सिद्धपीठ कुरूड़ के पुजारी मुंशी चंद्र गौड़ को सपने में दिखा कि सूंग गांव के केदार सिंह की भेड़ों में से एक चौसिंग्या खाडू पैदा हुआ है। बुधवार को मेहरबान सिंह और मुंशी चंद्र सूंग गांव पहुंचे। यहां खोजबीन के बाद केदार सिंह की भेड़ों में चौसिंग्या खाडू की पहचान की गई। सिद्धपीठ कुरूड़ के पुजारी मंशाराम गौड़ ने बताया कि धार्मिक मान्यताओं के आधार पर चौसिंग्या खाडू के तिलक की तिथि शीघ्र तय कर ली जाएगी। श्री नंदा राजजात यात्रा आगामी 18 अगस्त से विभिन्न पड़ावों से होकर छह सितंबर को होगी।

चौसिंग्या खाडू की ये है मान्यता धार्मिक मान्यता के अनुसार चौसिंग्या खाडू को मां नंदा का देव रथ माना जाता है। यह 12 वर्ष में नंदा देवी के मायके के क्षेत्र में पैदा होता है। खाडू की पीठ पर लादकर मां नंदा के सामान को कैलाश तक पहुंचाया जाता है। होमकुंड से खाडू को पूजा-अर्चना के बाद कैलाश को अकेले ही रवाना कर दिया जाता है, जिसका आज भी नंदा के भक्त परंपरा के रूप में निर्वहन कर रहे हैं।

 

 

 

 

 


Nanda Devi Raj jat Yatra 2014 Details

Trekking during Nanda devi Raj Jat 2014 would require you to be in good health. While it is easy to get dragged by massive crowds, self-preparation for a long trek are must. Ask Dreamcatcher on how you can prepare best for this exclusive journey (yatra) that happens only once in 12-years.

 

Dreamcatcher will undertake this yatra with crew of abled mountaineers, who are trained with First-aid and also specialize in S & R, all this is done in an effort to make sure that everything is safely completed.

Yatra Route: Nauti – Idabadhani - Nauti - Kanuwa - Sem – Koti - Bhagwati – Kulsari – Chepnue – Nandkesari - Faldiagaon – Mundoli – Wan (Latu Devta) – Gairo Patal - Bedni – Pathar Nachonia – (Bhagubasa, Roopkund & Jeura Gali) – Shila Samudra - Homkund – Chandaniyaghat – Sitel - Ghat

Highest Altitude: Approx 5000 above MSL at Junargali Pass

Roopkund Lake altitude: 4700 above MSL

Yatra Dates : August 18 till September 06, 2014

Cautions: Good hiking boots, winter clothes, rain protection, rain-proof tents, sleeping bags needed. Health should be excellent with no recent acute physical problems.

Temperature and Weather: It could rain a lot during Yatra. Night temperatures around Roopkund could go below 0 degree Celsius.